वन प्रबंधन पर पहली पहल जिला दंतेवाड़ा से


बस्तर : बस्तर जिले में Forest Rights पर जिला प्रशासन के साथ मिलकर कर कार्य कर रही संस्था ATREE (Ashoka Trust for Research in ecology and the environment) की टीम द्वारा और KBKS दंतेवाड़ा के संयुक्त तत्वावधान में विगत दिनों दंतेवाड़ा जिले में दिनांक 12/03/2022 को सामुदायिक वन संसाधन अधिकारों की मान्यता एवं वन प्रबंधन के लिए प्रशिक्षण एवं क्षमता वर्धन हेतु कार्यशाला का आयोजन बचेली नगर में आयोजित किया गया था।
ATREE की पूरी टीम ( सर्व प्रथम डाक्टर शरद चंद्र लेले जी, डाक्टर श्रुति जी, डाक्टर वैंकट जी, डाक्टर अतूल जी, मास्टर ट्रेनर अनुभव शोरी जी) का दंतेवाड़ा में हमारे युवा साथियों के बीच आना, हमारे टीम के लिए नए मार्ग प्रशस्त करने जैसा था।
कार्यशाला में दिन भर वनों पर सामुदायिक वन संसाधन अधिकार की मान्यता एवं प्रमुख रूप से वनों पर बेहतर प्रबंधन करते हुए कैसे आर्थिक आजादी व गांव के स्वालंबन पर ग्रुपवार प्रशिक्षण दिया गया।
जिसका पहला परिणाम आज दिनांक 27/03/2022, को दंतेवाड़ा जिले के कटेकल्याण ब्लॉक के सामुदायिक वन संसाधन अधिकार मान्यता प्राप्त ग्राम- बड़े गुडरा में वन प्रबंधन हेतु पहला बैठक सफल रहा। गांव के युवाओं के साथ ही पारम्परिक ज्ञान के धनी गांव के बुजुर्गो का उत्साह देखते ही बन रहा था। बातें जैसे जैसे बढ़ती जाती वैसे वैसे एक एक बुजुर्ग अपनी जवानी को याद करते हुए आप बीती बताते कैसे हम जंगलों को बाहरी वन तस्करों से बचाते थे। गांव की कुल जनसंख्या 2500 है, और गांव को सामुदायिक वन संसाधन अधिकार मान्यता 1957 हेक्टेयर है।

बड़े गुडरा के युवाओं और बुजुर्गो ने ठाना है।
वन का बेहतर प्रबंधन कर, गांव में स्वालंबन रूपी विकास को लाना है।

_तुलसी ठाकुर

 5,066 total views,  4 views today


Facebook Comments

Comments

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Loading…

0

मुण्डापाल और घाटकवाली ग्रामसभा ने सौंपा CFR,CFRR का दावा प्रारूप

बैगा चक और रावस के लोगों ने कुमुडकट्टा के जंगलों का अध्ययन किया